शिक्षण केंद्र

विदेशी मुद्रा क्या है

विदेशी मुद्रा बाजार का परिचय

हालाँकि विदेशी मुद्रा बाजार दुनिया में सबसे ज्यादा ट्रेड होने वाला बाजार है, खुदरा सेक्टर में इक्विटी और नियत आय बाजार की तुलना में इसकी पहुँच काफी फीकी है। इसका एक बड़ा कारण निवेश समुदाय में विदेशी मुद्रा विनिमय के बारे में जागरूकता की कमी, साथ ही साथ विदेशी मुद्रा में परिवर्तन के कारण और तरीके की समझ की कमी है। NYSE या CME जैसे वास्तविक सेंट्रल एक्सचेंच की कमी इस बाजार के रहस्य में इजाफ़ा करती है। संरचना की यही कमी विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार को 24 घंटे परिचालित होने में सक्षम बनाती है, जहाँ कारोबारी दिन न्यूजीलैंड से शुरू होता है और अलग-अलग टाइम ज़ोन में जारी रहता है।

पारंपरिक रूप से, विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार बैंक समुदाय तक सीमित थी, जो व्यावसायिक, हेजिंग या सट्टा प्रयोजनों से काफी मात्रा में मुद्राओं को ट्रेड करते थे। USG जैसी कंपनियों की स्थापना ने विदेशी मुद्रा के दरवाजे फ़ंड और मनी मैनेजर्स, साथ ही साथ व्यक्तिगत रिटेल कारोबारी के लिए खोल दिया है। बाजार का यह क्षेत्र पिछले कई सालों में बहुत तेजी से विकसित हुआ है।

विदेशी मुद्रा विनिमय कारोबार क्या है?

विदेशी मुद्रा विनिमय लेनदेन में, एक मुद्रा को किसी दूसरी मुद्रा के बदले बेचा जाता है। दर दो मुद्राओं के बीच तुलनात्मक मान का वर्णन करता है। मुद्राओं को सामान्यतः तीन अंकों वाला ‘स्विफ़्ट’ कोड द्वारा पहचाना जाता है। उदाहरण के लिए, EUR = यूरो, USD = अमेरिकी डॉलर, CHF = स्विस फ़्रैंक इत्यादि। संपूर्ण कोड सूची यहाँ पाई जा सकती है। EUR/USD दर 1.5000 का अर्थ 1 EUR का मोल 1.5 USD है।

कभी-कभी, EUR/USD का उल्लेख मुद्रा जोड़ी के रूप में किया जाता है। दर पलटा जा सकता है। इसलिए EUR/USD दर 1.5000 USD/EUR दर 0.6666 के बराबर है। दूसरे शब्दों में, USD 1 का मोल EUR 0.6666 है। बाजार का चलन है कि अधिकतर मुद्राओं का भाव डॉलर के मुकाबले बताया जाता है, लेकिन इसमें कुछ उल्लेखनीय अपवाद हैं, जैसे कि पहले ही उल्लिखित EUR/USD, GBP/USD (यूके पाउंड स्टर्लिंग) और AUD/USD (ऑस्ट्रेलियन डॉलर)। यह उतना भ्रामक नहीं है जितना प्रतीत होता है।

विदेशी मुद्रा चिह्न

इक्विटी की तरह, मुद्राओं के भी अपने चिह्न होते हैं जो उन्हें एक दूसरे से अलग करते हैं। चूँकि मुद्राओं के भाव एक के मान के प्रति दूसरे के मान के अनुसार बताए जाते हैं, मुद्रा जोड़ी में दोनों मुद्राओं के 'नाम' फ़ॉरवर्ड स्लैश ('/') द्वारा विभाजित होते हैं। 'नाम' तीन अक्षरों वाला परिवर्णी शब्द है। अधिकतर मामलों में, पहले दो अक्षर देश की पहचान के लिए आरक्षित होते हैं। अंतिम अक्षर उस देश की मुद्रा का पहला अक्षर होता है।

उदाहरण के लिए,
USD = यूनाइटेड स्टेट्स डॉलर
GBP = ग्रेट ब्रिटेन पाउंड
JPY = जापानी येन
CAD = कैनेडियन डॉलर
CHF = कन्फ़ेडेरेशियो हेल्वेटिका (स्विस संघ के लिए लैटिन शब्द) फ़्रैंक
NZD = न्यूजीलैंड डॉलर
AUD = ऑस्ट्रेलियन डॉलर
NOK = नोर्वेजियन क्रोना
SEK = स्वीडिश क्रोना
चूँकि यूरोपीय यूरो किसी विशेष देश से नहीं जुड़ा है, इसलिए यह केवल परिवर्णी शब्द EUR है। किसी एक मुद्रा (EUR) को दूसरी मुद्रा (USD) से मिलाकर, आप एक मुद्रा जोड़ी बनाते हैं - EUR/USD।

बेस और काउंटर मुद्रा

किसी मुद्रा जोड़ी में एक मुद्रा हमेशा प्रमुख होती है। यह बेस मुद्रा कहलाती है। बेस मुद्रा की पहचान मुद्रा जोड़ी की पहली मुद्रा के रूप में होती है। यही वह मुद्रा है जो मुद्रा जोड़ी का मूल्य निर्धारित करते समय अटल रहती है।

यूरो अन्य सभी वैश्विक मुद्राओं के लिए प्रमुख बेस मुद्रा है। जिसके फलस्वरूप, EUR के प्रति मुद्रा जोड़ियों की पहचान EUR/USD, EUR/GBP, EUR/CHF, EUR/JPY, EUR/CAD इत्यादि के रूप में होगी। सभी में EUR परिवर्णी शब्द क्रम में पहले आता है।

मुद्रा नाम प्रधानता अनुक्रम में ब्रिटिश पाउंड अगला है। प्रमुख मुद्रा जोड़ियाँ बनाम GBP की पहचान GBP/USD, GBP/CHF, GBP/JPY, GBP/CAD इत्यादि के रूप में होगी। EUR/GBP के अलावा, GBP को मुद्रा जोड़ी में पहली मुद्रा के रूप में देखने की अपेक्षा करें।

USD अगला सबसे अधिक प्रमुख बेस मुद्रा है। अधिकतर मुद्राओं के लिए USD/CAD, USD/JPY, USD/CHF सामान्य मुद्रा जोड़ी होगी। चूँकि बेस मुद्रा के संबंध में EUR और GBP अधिक प्रमुख हैं, डॉलर का भाव EUR/USD और GBP/USD के रूप में बताया जाता है। बेस मुद्रा को जानना महत्वपूर्ण है, क्योंकि विदेशी मुद्रा सौदा निष्पादित होते समय यह विनिमय की मुद्राओं के मान (अनुमानित या वास्तविक) निर्धारित करता है। काउंटर मुद्रा किसी मुद्रा जोड़ी की दूसरी मुद्रा होती है।

विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार हिस्सेदार

विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में बहुत सारे विभिन्न प्रकार के हिस्सेदार हैं, और वे अक्सर ट्रेड करते समय बहुत अलग-अलग परिणामों की अपेक्षा रखते हैं। इसलिए हालाँकि विदेशी मुद्रा विनिमय का वर्णन अक्सर ‘जीरो-सम’ गेम के रूप में होता है – एक निवेशक का लाभ, सैद्धांतिक रूप में, दूसरे के घाटे के समान होता है – पैसे बनाने के अनेक अवसर होते हैं। विदेशी मुद्रा विनिमय को एक पाई के रूप में देखा जा सकता है जिसमें से हर किसी को ठीक-ठाक भोजन मिल जाता है।

पारंपरिक रूप से, बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार के मुख्य हिस्सेदार हैं। वे मार्केट शेयर के अनुसार अभी भी सबसे बड़े प्लेयर बने हुए हैं, लेकिन पारदर्शिता ने विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार को और अधिक लोकतांत्रिक बना दिया है। अब, लगभग हर किसी की पहुँच, उन अत्यंत संकीर्ण मूल्यों तक होती है जो अंतर बैंक बाजार में उद्धरित होते हैं। इसलिए, बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में मुख्य खिलाड़ी बने हुए हैं, लेकिन मार्केट मेकर की एक नई नस्ल, जैसे कि हेज फ़ंड और कमोडिटी ट्रेडिंग सलाहकार, पिछले एक दशक में उभरी है।

केंद्रीय बैंक भी विदेशी मुद्रा बाजार में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं, जबकि अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों की विदेशी मुद्रा विनिमय जोख़िम के एक्सपोज़र के कारण ट्रेडिंग में सहज रुचि होती है।

पिछले एक दशक में रिटेल विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार बहुत तेज़ी से फैला है और यद्यपि सटीक आंकड़े पाना मुश्किल है, ऐसा माना जाता है कि यह क्षेत्र विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार के 20% तक का प्रतिनिधित्व करता है।

हमारे बारे में
प्लेटफ़ॉर्म
खाता प्रकार
बाजार समाचार और विश्लेषण
शिक्षण केंद्र
पार्टनर एवं सहयोगी कंपनियाँ